Monday, 30 January 2012

नेता, कुत्ता और वेश्या


नेता और कुत्ता
एक दिवस मैंने था सोचा, क्यों न मैं  नेता बन जाऊँ।
पर नेताओं के गुण क्या हैं, उन गुण को मैं कैसे पाऊँ।।
मैंने पूँछा  इक  कुत्ते से, नेता  की परिभाषा क्या है।
भौं भौं करके वह था बोला, नेता क्या तूँ कोई नया है।।
नेता  मेरे  जैसे  होते, मेरी  जैसी   करते   भौं  भौं।
वह आगे ही बढ़ते ही जाते, मेरे गुण अपनाते ज्यों ज्यों।।
हाई कमान के सम्मुख  सारे, नेता  अपनी पूँछ हिलाते।
चलते  फिरते सोते  जगते, हाई कमान  चालीसा  गाते।।
दिखे  जो  नेता  कोई  विरोधी , गाली  देते  हैं  गुर्राते।
भूल  के  अपनी  मर्यादा को, भौं भौं  कर उसको दौड़ाते।।
जब आता कुत्तों का मौसम, कुत्ते दिखते जगह जगह पर।
जब  आता चुनाव का मौसम, नेता दिखते  गाँव शहर हर।।
कुत्तों  का बस एक  धर्म  है, जिसकी खायें सदा  भजायें।
नेताओं  का  धर्म न कोई, देश  की  खायें  देश को खायें।।
एक  ओर  गुण मेल न खाता, हम मालिक अपने न बदलें।
सत्ता  के  खाति  तो नेता, सब मतलब परस्त ही निकलें।।
हम  कुत्ते  हैं सभी  जानते, नहीं  पता नेता की जात का।
सदा  बदलते रहते  जो  दल, धोबी कुत्ता घर न घाट का।।
टूट   गया  था  मेरा  सपना, बीबी  ने  आवाज   लगाई।
कभी  मैं  नेता  नहीं  बनूँगा, कुत्ते  की  सौगंध ये खाई।।
        नेता और वेश्या
नेता और वेश्या में,
कोई खास फर्क नहीं है।
नेता को वेश्या मान लूँ,
इसका अर्थ यही है।।
जिस तरह से वेश्यायें,
बनावटी श्रंगार करके
अपने ग्राहको को
बेवकूफ बनाती हैं
उसी तरह से नेता भी
झूठे लुभावने आश्वासनों से
जनता को लुभा करके
बेवकूफ बनाते हैं
और जीतने के बाद
सभी वादे भूल जाते हैं
यदि आप मेरी बात से
असहमत हों
तो कृपया मेरी शंका का
समाधान करें
पक्ष में या प्रतिपक्ष में
अपनी प्रतिक्रिया देकर
अपना मत जरूर दान करें

86 comments:

  1. नेताओं का सही आंकलन किया है आपने दिनेश जी ... आज के नेता ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिगम्बर जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार......

      Delete
  2. kraara vyangya kiya hae bdhai.

    ReplyDelete
    Replies
    1. संगीता जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.......

      Delete
  3. सुन्दर एवं सटीक व्यंग्य ! सच्चाई को बड़े ही शानदार रूप से प्रस्तुत किया है आपने!

    ReplyDelete
    Replies
    1. उर्मी जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार......

      Delete
  4. sateek kathaaksh. bahut mazedar rachna hai. par sabhi neta aise nahin, kuchh mein aadmiyat ke gun bhi hain bhale hi ginti ke hon. koi neta achchha kaam bhi kare to bhi adhikaansh netaaon ke chaal ne unka haal bigaad diya hai. aise netaaon kee tulna se kutta ka bhi apmaan lagta hai. hum bhi laachaar neta bhi...
    bahut khoob, badhai.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शबनम जी सच कहा आपने सभी नेता ऐसे नहीं होते, पर हमारा दुर्भाग्य कि अधिकांश
      नेता ऐसे ही होते हैं।
      प्रतिक्रया देने के लिये आभार......

      Delete
  5. नेताओं के वास्तविक रूप का वर्णन किया है आपने।
    जबर्दस्त व्यंग्य !

    ReplyDelete
    Replies
    1. महेन्दर जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.......

      Delete
  6. उसी तरह से नेता भी
    झूठे लुभावने आश्वासनों से
    जनता को लुभा करके
    बेवकूफ बनाते हैं.bahut badhiyaa.hm bebkoof bnte hain ye hmari bhi to galti hai.

    ReplyDelete
    Replies
    1. निशा जी सबसे यही निवेदन है कि अब वेबकूफ ने बने।
      प्रतिक्रिया देने के लिये हृदय से आभार......

      Delete
  7. Replies
    1. गाफिल जी सादर आभार.....

      Delete
  8. bahut jordar vyangya......accha laga.......

    ReplyDelete
    Replies
    1. अमरेन्दर जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.......

      Delete
  9. क्या सही पर्यायवाची ढूँढा है ... हाहाहा , वैसे कुत्ते वफादार होते है , वेश्या प्यार कर लेती है , पर नेता !

    ReplyDelete
    Replies
    1. रश्मि जी सच कहा आपने, नेताओं की कत्ते एवं वेश्याओं से तुलना करने
      से नेताओं का तो सम्मान होता है, किन्तु इन मजबूर प्राणियों का जरूर
      अपमान हो जाता है।
      प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.....

      Delete
  10. आज के नेता के वास्तविक रूप का वर्णन..रचना के माध्यम से सटीक बात ...आभार जबर्दस्त व्यंग्य !

    ReplyDelete
    Replies
    1. संजय जी नेताओं का वास्तविक रूप यही है, जो वोटर पहचान नहीं पाते।
      प्रतिक्रिया देने के लिेये आभार.....

      Delete
  11. करारा व्यंग, सटीक पंक्तियाँ

    ReplyDelete
    Replies
    1. मोनिका जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार........

      Delete
  12. सटीक व्यंग ...

    काश इसको नेता भी पढ़ पाते तो शायद दो पल को आत्मविश्लेषण तो करते..
    शुक्रिया.

    ReplyDelete
    Replies
    1. विद्या जी सच कहा आपने।
      प्रतिक्रिया देने के लिये आभार....

      Delete
  13. नेता अगर ऐसे पढ़ ले,तो शायद कुछ सुधर जाते सार्थक सटीक रचना ,...
    पोस्ट पर आने के लिए आभार ,.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. धीरेन्द्र जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार....

      Delete
  14. Replies
    1. आशा जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.....

      Delete
  15. एक ओर गुण मेल न खाता, हम मालिक अपने न बदलें।
    ---सुन्दर नेता-कुत्ता....चालीसा ...वैश्या/कुत्ता कुछ तो देते हैं.....पर नेता...???

    ReplyDelete
    Replies
    1. श्याम जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.......

      Delete
  16. बहुत सटीक व्यंग...

    ReplyDelete
    Replies
    1. कैलाश जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.......

      Delete
  17. neta-kutta ---- sunder rachna... sach hai adhikansh neta to kutte se bhi badtar hai....

    vaishya uar neta rachna theek hai..par vaishya to shayad kisi vajah se lachar hoti hai... par neta...

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रीति सच कहा आपने।
      प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.....

      Delete
  18. Aaj ke neta ka sahi charitra chitran kiya hai aapne is rachna k dwara..........

    ReplyDelete
    Replies
    1. रजनी जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.......

      Delete
  19. karara vyang hai kamal ka aapki likhni me dam hai
    rachana

    ReplyDelete
  20. प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.....

    ReplyDelete
  21. सच्चाई को बड़े ही शानदार रूप से प्रस्तुत किया है आपने| आभार|

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रतिक्रिया देने के लिये आभार......

      Delete
  22. नेता, कुत्ता और वेश्या..????

    नहीं ....

    नेता- कुत्ता और वेश्या...:))

    शीर्षक तो ठीक से लिखें ....:))

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया तीनों की तुलनात्मक विवेचना करने की इच्छा से शीर्षक आपके विचारानुसार
      नहीं लिख सका। आपकी असुविधा के लिये क्षमा चाहता हूँ। एवं मार्गदर्शन करने के लिये
      आभार व्यक्त करता हूँ।
      आगे भी मार्गदर्शन करते रहियेगा। आपकी कृपा होगी।

      Delete
  23. ज़बरदस्त व्यंग है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. कुँवर जी प्रतिक्रिया व्यक्त करने के लिये आभार......

      Delete
  24. शानदार प्रहार । बहुत बढ़िया रचना । पर नेता से तुलना करके आपने कुत्तों और वेश्याओं की बेईज्जती कर दी । आपसे नाराज होंगे वो सब । हा हा हा ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. साहनी जी सच कहा आपने, नेताओं की कुत्तों एवं वेश्याओं से तुलना करके मैने इन निरीह प्राणियों के साथ न्याय नहीं किया है।
      प्रतिक्रिया देने के लिये आभार........

      Delete
  25. teekhee khichayee kr di .....Agrwal ji neta badi besharm kaum hai...kaun jane kb sudharenge ....sundar rachana ke liye badhai.

    ReplyDelete
    Replies
    1. नवीन जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार......

      Delete
  26. Replies
    1. अरुण जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.......

      Delete
  27. क्या व्यंग्य किया है आपने ....शब्दों के तीर चला दिए गए हैं आपकी लेखनी में ...बहुत खूब

    ReplyDelete
    Replies
    1. अंजू जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार......

      Delete
  28. बेहतरीन प्रस्तुति!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. राजपुरोहित जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार......

      Delete
  29. वाह!!!!!बहुत सुंदर करारी प्रस्तुति,बहुत अच्छी लगी ,...

    NEW POST....
    ...काव्यान्जलि ...: बोतल का दूध...
    ...फुहार....: कितने हसीन है आप.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. धीरेन्द्र जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.......

      Delete
  30. बहुत सामयिक और सटीक तुलना की है आपने . बधाई

    शिव प्रकाश मिश्रा
    Blogs:
    WE THE INDIANS
    हम हिन्दुस्तानी

    ReplyDelete
    Replies
    1. शिव प्रकाश जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार......

      Delete
  31. Replies
    1. अना जी प्रतिक्रिया देने के लिेये आभार......

      Delete
  32. dinesh jee/
    really... sansad is a conference of .... samjh gaye naa./
    your comparision ... is true

    ReplyDelete
    Replies
    1. Wah!
      Comment box nahee khul raha isliye yahan likh rahee hun! Kshama karen!

      Delete
    2. बबन जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार........

      Delete
    3. आपकी प्रतिक्रिया मेरी लेखन क्षमता को ऊर्जा प्रदान करने वाली है,
      वह प्रतिक्रिया आपने कहा दी इससे कोई फर्क नहीं पड़ता।
      प्रतिक्रिया देने के लिये हृदय से आभार.........

      Delete
  33. Replies
    1. गोपाल जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.....

      Delete
  34. वाह!!!!!बहुत सुंदर करारी प्रस्तुति,बहुत अच्छी लगी ,...

    ReplyDelete
    Replies
    1. राकेश जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार....

      Delete
  35. kal maine neta kutta aur veshya ka part two dekha tha lekin aj blog se gayab hai .....kya ap ne post cancle kr di hai ...prateeksha me hoon jaldi kijiye agrwal sahab .

    ReplyDelete
    Replies
    1. नवीन जी नमस्कार, नेता- कुत्ता और वेश्या का दूसरा भाग मेरी त्रुटि से दूसरे ब्लॉग पर पोस्ट हो गया। आपकी असुविधा के लिये क्षमा चाहता हूँ। कृपया दूसरे भाग के लिये देखें..
      नेता- कुत्ता और वेश्या (भाग-2)

      Delete
  36. आप के पक्ष में हूँ ! इस बला से दूर रहे तो बेहतर !

    ReplyDelete
    Replies
    1. SHAW साहब सादर नमस्कार. आपकी सहमति और प्रतिक्रिया के लिये आभार.....
      सच कहा आपने इस बला से दूर रहना ही बेहतर है.....

      Delete
  37. नेता सारे अब कुत्ताये ,पर वैश्या की बात अलग है कितनों को हर पल निपटाए (मर्द की औकात क्या है ,वैश्या देवों को निपटाए ,फिर भी अपना धर्म निभाये ,कुत्ता मर्द कहाए .

    ReplyDelete
  38. वीरूभाई नमस्कार, आपकी बातों से में पूणर्तः सहमत हूँ।
    प्रतिक्रिया देने के लिये आभार....

    ReplyDelete
  39. आपके इस उत्‍कृष्‍ट लेखन के लिए आभार ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सूत्रधार जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.....

      Delete
    2. हाय सब,

      आप एक व्यवसाय है कि एक कम समय में आप अपनी वित्तीय स्थिति को बेहतर करने के लिए बदल सकते हैं की कल्पना कर सकते हैं?
      आप जो व्यवसाय में एक प्रतिशत है, जो है नहीं देने के लिए और हमेशा की तरह, किसी भी निवेश के बिना होगा?
      व्यापार कि सरल है और कि आप एक जीवन भर प्रदान कर सकते हैं?
      जो व्यापार में आप कुछ खोना नहीं है, लेकिन आप केवल एक ही प्राप्त कर सकते हैं?
      आप गूगल के सदस्य अच्छी तरह से भुगतान करना चाहेंगे?
      बात यह है ... WAZZUB


      WAZZUB - नई तकनीक का पेटेंट कराया पंजीकरण करने के लिए दुनिया में सबसे का दौरा किया वेबसाइटों बन पृष्ठ.
      गूगल भी रिकॉर्ड FACEBOOK तोड़ दिया और गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज किया गया. WAZZUB 2012 में, अरबों लोगों की नहीं लाखों के जीवन में परिवर्तन ...
      इस एमएलएम (बहु स्तरीय विपणन) नहीं है - WAZZUB बहुत खास है!
      कोई अन्य कंपनी के उन लोगों को जो मुक्त हो जाएगा के लिए अपने लाभ का 50% की पेशकश की है और इस नई परियोजना के साथ शामिल किया जाएगा. यह सब पर बाजार में ही कंपनी है.

      करोड़ों परियोजना WAZZUB. इसकी शुरुआत 2007 से अधिक 2000000 $ के एक निवेश के साथ वापस की तारीख.

      यह एक नया इंटरनेट घटना है, और आप एक दुनिया में पहली बार इसके बारे में पता कर रहे हैं. अब यह बहुत महत्वपूर्ण है समझ तुम क्या आपके हाथों में है.

      समय महत्वपूर्ण है.

      आप एक जीवन भर के माध्यम से वित्तीय स्वतंत्रता प्राप्त कर सकते हैं - मुक्त - और एक बड़े पैमाने पर निष्क्रिय आय हर महीने.

      आप गहरी 5 पीढ़ियों में उनकी "असीमित" चौड़ाई में प्रति व्यक्ति $ 1 अर्जित कर सकते हैं.

      अगर यह ज्यादा नहीं लगता है देखो, क्या होता है:

      यदि आप 5 दोस्तों को आमंत्रित करते हैं, और उन पांच दोस्तों को एक ही बात करेंगे:

      पहले 5 पीढ़ी एक्स 1 $ $ $ 5 =
      दूसरी पीढ़ी के 25 एक्स 1 $ = $ 25
      x 125 $ 1 = $ 125 की तीसरी पीढ़ी
      चौथी पीढ़ी के 625 एक्स 1 $ = $ 625
      5 3125 पीढ़ी x 1 $ 3 $ 125 =
      ____________________________________
      अपने निष्क्रिय आय 3905 $ कुल होगा. यह निष्क्रिय आय आप प्रत्येक महीने हो और तुम क्या तुम हर दिन कर रहे हैं की तुलना में और कुछ नहीं करते.

      क्या होगा अगर हर कोई परियोजना केवल 10 लोगों को आमंत्रित किया? इस राशि के लिए 111 $ 110 प्रति माह करने के लिए गुलाब होगा - एक निष्क्रिय जीवन!

      और अधिक लोगों को आमंत्रित करने के लिए, अधिक पैसे कमाने. 20 या 30 की कोशिश करो और देखो क्या होता है ... आप विश्वास नहीं करेंगे.

      यह एक तथ्य यह है कि ज्यादातर लोगों में शामिल है क्योंकि यह एक अद्वितीय कमाने का अवसर है,
      यह शक्ति है और यह मुफ़्त है और हर कोई मुक्त सामान प्यार करता है :)

      पंजीकरण लिंक: signup.wazzub.info / LrRef = 7ad20
      जानकारी: http://www.youtube.com/watch?v=d1hZTu6D9VY
      जानकारी: www.youtube.com/watch?v=5yv4BvQv1Kk

      Delete
  40. व्यंग्य क्या यह तो सीधी गाली है । संभव में कि इससे भी आगे कुछ करना पड जाए ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. गिरिजा जी, नेता शब्द ही मुझे गाली की तरह लगता है।
      प्रतिक्रिया देने के लिये आभार......

      Delete
    2. हाय सब,

      आप एक व्यवसाय है कि एक कम समय में आप अपनी वित्तीय स्थिति को बेहतर करने के लिए बदल सकते हैं की कल्पना कर सकते हैं?
      आप जो व्यवसाय में एक प्रतिशत है, जो है नहीं देने के लिए और हमेशा की तरह, किसी भी निवेश के बिना होगा?
      व्यापार कि सरल है और कि आप एक जीवन भर प्रदान कर सकते हैं?
      जो व्यापार में आप कुछ खोना नहीं है, लेकिन आप केवल एक ही प्राप्त कर सकते हैं?
      आप गूगल के सदस्य अच्छी तरह से भुगतान करना चाहेंगे?
      बात यह है ... WAZZUB


      WAZZUB - नई तकनीक का पेटेंट कराया पंजीकरण करने के लिए दुनिया में सबसे का दौरा किया वेबसाइटों बन पृष्ठ.
      गूगल भी रिकॉर्ड FACEBOOK तोड़ दिया और गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज किया गया. WAZZUB 2012 में, अरबों लोगों की नहीं लाखों के जीवन में परिवर्तन ...
      इस एमएलएम (बहु स्तरीय विपणन) नहीं है - WAZZUB बहुत खास है!
      कोई अन्य कंपनी के उन लोगों को जो मुक्त हो जाएगा के लिए अपने लाभ का 50% की पेशकश की है और इस नई परियोजना के साथ शामिल किया जाएगा. यह सब पर बाजार में ही कंपनी है.

      करोड़ों परियोजना WAZZUB. इसकी शुरुआत 2007 से अधिक 2000000 $ के एक निवेश के साथ वापस की तारीख.

      यह एक नया इंटरनेट घटना है, और आप एक दुनिया में पहली बार इसके बारे में पता कर रहे हैं. अब यह बहुत महत्वपूर्ण है समझ तुम क्या आपके हाथों में है.

      समय महत्वपूर्ण है.

      आप एक जीवन भर के माध्यम से वित्तीय स्वतंत्रता प्राप्त कर सकते हैं - मुक्त - और एक बड़े पैमाने पर निष्क्रिय आय हर महीने.

      आप गहरी 5 पीढ़ियों में उनकी "असीमित" चौड़ाई में प्रति व्यक्ति $ 1 अर्जित कर सकते हैं.

      अगर यह ज्यादा नहीं लगता है देखो, क्या होता है:

      यदि आप 5 दोस्तों को आमंत्रित करते हैं, और उन पांच दोस्तों को एक ही बात करेंगे:

      पहले 5 पीढ़ी एक्स 1 $ $ $ 5 =
      दूसरी पीढ़ी के 25 एक्स 1 $ = $ 25
      x 125 $ 1 = $ 125 की तीसरी पीढ़ी
      चौथी पीढ़ी के 625 एक्स 1 $ = $ 625
      5 3125 पीढ़ी x 1 $ 3 $ 125 =
      ____________________________________
      अपने निष्क्रिय आय 3905 $ कुल होगा. यह निष्क्रिय आय आप प्रत्येक महीने हो और तुम क्या तुम हर दिन कर रहे हैं की तुलना में और कुछ नहीं करते.

      क्या होगा अगर हर कोई परियोजना केवल 10 लोगों को आमंत्रित किया? इस राशि के लिए 111 $ 110 प्रति माह करने के लिए गुलाब होगा - एक निष्क्रिय जीवन!

      और अधिक लोगों को आमंत्रित करने के लिए, अधिक पैसे कमाने. 20 या 30 की कोशिश करो और देखो क्या होता है ... आप विश्वास नहीं करेंगे.

      यह एक तथ्य यह है कि ज्यादातर लोगों में शामिल है क्योंकि यह एक अद्वितीय कमाने का अवसर है,
      यह शक्ति है और यह मुफ़्त है और हर कोई मुक्त सामान प्यार करता है :)

      पंजीकरण लिंक: signup.wazzub.info / LrRef = 7ad20
      जानकारी: http://www.youtube.com/watch?v=d1hZTu6D9VY
      जानकारी: www.youtube.com/watch?v=5yv4BvQv1Kk

      Delete
  41. हाय सब,

    आप एक व्यवसाय है कि एक कम समय में आप अपनी वित्तीय स्थिति को बेहतर करने के लिए बदल सकते हैं की कल्पना कर सकते हैं?
    आप जो व्यवसाय में एक प्रतिशत है, जो है नहीं देने के लिए और हमेशा की तरह, किसी भी निवेश के बिना होगा?
    व्यापार कि सरल है और कि आप एक जीवन भर प्रदान कर सकते हैं?
    जो व्यापार में आप कुछ खोना नहीं है, लेकिन आप केवल एक ही प्राप्त कर सकते हैं?
    आप गूगल के सदस्य अच्छी तरह से भुगतान करना चाहेंगे?
    बात यह है ... WAZZUB


    WAZZUB - नई तकनीक का पेटेंट कराया पंजीकरण करने के लिए दुनिया में सबसे का दौरा किया वेबसाइटों बन पृष्ठ.
    गूगल भी रिकॉर्ड FACEBOOK तोड़ दिया और गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज किया गया. WAZZUB 2012 में, अरबों लोगों की नहीं लाखों के जीवन में परिवर्तन ...
    इस एमएलएम (बहु स्तरीय विपणन) नहीं है - WAZZUB बहुत खास है!
    कोई अन्य कंपनी के उन लोगों को जो मुक्त हो जाएगा के लिए अपने लाभ का 50% की पेशकश की है और इस नई परियोजना के साथ शामिल किया जाएगा. यह सब पर बाजार में ही कंपनी है.

    करोड़ों परियोजना WAZZUB. इसकी शुरुआत 2007 से अधिक 2000000 $ के एक निवेश के साथ वापस की तारीख.

    यह एक नया इंटरनेट घटना है, और आप एक दुनिया में पहली बार इसके बारे में पता कर रहे हैं. अब यह बहुत महत्वपूर्ण है समझ तुम क्या आपके हाथों में है.

    समय महत्वपूर्ण है.

    आप एक जीवन भर के माध्यम से वित्तीय स्वतंत्रता प्राप्त कर सकते हैं - मुक्त - और एक बड़े पैमाने पर निष्क्रिय आय हर महीने.

    आप गहरी 5 पीढ़ियों में उनकी "असीमित" चौड़ाई में प्रति व्यक्ति $ 1 अर्जित कर सकते हैं.

    अगर यह ज्यादा नहीं लगता है देखो, क्या होता है:

    यदि आप 5 दोस्तों को आमंत्रित करते हैं, और उन पांच दोस्तों को एक ही बात करेंगे:

    पहले 5 पीढ़ी एक्स 1 $ $ $ 5 =
    दूसरी पीढ़ी के 25 एक्स 1 $ = $ 25
    x 125 $ 1 = $ 125 की तीसरी पीढ़ी
    चौथी पीढ़ी के 625 एक्स 1 $ = $ 625
    5 3125 पीढ़ी x 1 $ 3 $ 125 =
    ____________________________________
    अपने निष्क्रिय आय 3905 $ कुल होगा. यह निष्क्रिय आय आप प्रत्येक महीने हो और तुम क्या तुम हर दिन कर रहे हैं की तुलना में और कुछ नहीं करते.

    क्या होगा अगर हर कोई परियोजना केवल 10 लोगों को आमंत्रित किया? इस राशि के लिए 111 $ 110 प्रति माह करने के लिए गुलाब होगा - एक निष्क्रिय जीवन!

    और अधिक लोगों को आमंत्रित करने के लिए, अधिक पैसे कमाने. 20 या 30 की कोशिश करो और देखो क्या होता है ... आप विश्वास नहीं करेंगे.

    यह एक तथ्य यह है कि ज्यादातर लोगों में शामिल है क्योंकि यह एक अद्वितीय कमाने का अवसर है,
    यह शक्ति है और यह मुफ़्त है और हर कोई मुक्त सामान प्यार करता है :)

    पंजीकरण लिंक: signup.wazzub.info / LrRef = 7ad20
    जानकारी: http://www.youtube.com/watch?v=d1hZTu6D9VY
    जानकारी: www.youtube.com/watch?v=5yv4BvQv1Kk

    ReplyDelete
  42. बेहतर
    विश्लेषण अच्छा है.

    ReplyDelete
  43. वाह...वाह...वाह...
    सुन्दर प्रस्तुति.....बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  44. बहुत खूब ...
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  45. नेता और कुत्ता नेता जात पर करारा व्यब्ग्य है ,लेकिन नेता और वैश्या में वैश्या बेहतर है वह हराम की नहीं खाती हाड तोड़ कमाती है ,अपना धर्म निभाती है .

    ReplyDelete
  46. Netao ki dhajjiya ooda di aapne is rachna ke madhyam se ... badhai.

    ReplyDelete